Shopping Cart
0 Item in Cart
Premchand Kahani Rachanavali Volume 5 (Hindi)

Premchand Kahani Rachanavali Volume 5 (Hindi)
Books from same Author: Kamal Kishor Goyanaka
Books from same Publisher: Sahitya Akademi

Rating  
(80 Ratings)

Retail Price: 300.00/-
Price: 294.00/-
Inclusive all taxes
2.00% OFF
Sold By: Shriadhya

Offer 1: Get 2.00% + Flat ₹ 50 discount on shopping of ₹ 1000
                use code:
IND50

Offer 2: Get 2.00% + Flat ₹ 100 discount on shopping of
                ₹ 1500 use code:
IND100

Offer 3: Get 2.00% + Flat ₹ 300 discount on shopping of
                ₹ 5000 use code:
MPSTK300

Free Shipping (for orders above ₹ 499)  *T&C apply.

In Stock Click For New Edition
Select Quantity :


International Shipping Click for International Order
Description

प्रेमचंद कहानी रचनावली भाग 5 (हिंदी)

प्रेमचंद का जन्म ३१ जुलाई १८८० को वाराणसी के निकट लमही गाँव में हुआ था। मूल नाम धनपत राय श्रीवास्तव, प्रेमचंद को नवाब राय और मुंशी प्रेमचंद के नाम से भी जाना जाता है।, उनकी माता का नाम आनन्दी देवी था तथा पिता मुंशी अजायबराय लमही में डाकमुंशी थे। और उनके पास छह बीघा जमीन थी। उनकी शिक्षा का आरंभ उर्दू, फारसी से हुआ और जीवनयापन का अध्यापनसे पढ़ने का शौक उन्हें बचपन से ही लग गया। 13 साल की उम्र में ही उन्होंने तिलिस्म-ए-होशरुबा पढ़ लिया और उन्होंने उर्दू के मशहूर रचनाकार रतननाथ 'शरसार', मिर्ज़ा हादी रुस्वा और मौलाना शरर के उपन्यासों से परिचय प्राप्त कर लिया। १८९८ में मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद वे एक स्थानीय विद्यालय में शिक्षक नियुक्त हो गए। नौकरी के साथ ही उन्होंने पढ़ाई जारी रखी।१९१० में उन्होंने अंग्रेजी, दर्शन, फारसी और इतिहास लेकर इंटर पास किया और १९१९ में बी.ए. पास करने के बाद शिक्षा विभाग के इंस्पेक्टर पद पर नियुक्त हुए।

सात वर्ष की अवस्था में उनकी माता तथा चौदह वर्ष की अवस्था में पिता का देहान्त हो जाने के कारण उनका प्रारंभिक जीवन संघर्षमय रहा। उनका पहला विवाह उन दिनों की परंपरा के अनुसार पंद्रह साल की उम्र में हुआ जो सफल नहीं रहा। वे आर्य समाज से प्रभावित रहे, जो उस समय का बहुत बड़ा धार्मिक और सामाजिक आंदोलन था। उन्होंने विधवा-विवाह का समर्थन किया और १९०६ में दूसरा विवाह अपनी प्रगतिशील परंपरा के अनुरूप बाल-विधवा शिवरानी देवी से किया। उनकी तीन संताने हुईं- श्रीपत राय, अमृत राय और कमला देवी श्रीवास्तव। १९१० में उनका एक कहानी संग्रह "सोजे-वतन" के नाम से प्रकाशित हुआ। सोजे-वतन (राष्ट्र का विलाप) पुस्तक पर हमीरपुर के जिला कलेक्टर ने रोक लगानी चाही क्योंकि यह पुस्तक देशभक्ति की भावना से भरी कहानियों की थी। इससे अंग्रेजी शासन को खतरा था। इसलिए कलेक्टर ने प्रेमचंद जी पर जनता को भड़काने का आरोप लगाया। सोजे-वतन की सभी प्रतियाँ जब्त कर नष्ट कर दी गईं। कलेक्टर ने नवाबराय को हिदायत दी कि अब वे कुछ भी नहीं लिखेंगे, यदि लिखा तो जेल भेज दिया जाएगा। इस समय तक प्रेमचंद, धनपत राय नाम से लिखते थे। उर्दू में प्रकाशित होने वाली ज़माना पत्रिका के सम्पादक और उनके अजीज दोस्त मुंशी दयानारायण निगम ने उन्हें प्रेमचंद नाम से लिखने की सलाह दी। इसके बाद वे प्रेमचन्द के नाम से लिखने लगे। उन्होंने आरंभिक लेखन ज़माना पत्रिका में ही किया। जीवन के अंतिम दिनों में वे गंभीर रूप से बीमार पड़े। उनका उपन्यास मंगलसूत्र पूरा नहीं हो सका और लम्बी बीमारी के बाद ८ अक्टूबर १९३६ को उनका निधन हो गया। उनका अंतिम उपन्यास मंगल सूत्र उनके पुत्र अमृत ने पूरा किया।

उपन्यास के क्षेत्र में उनके योगदान को देखकर बंगाल के विख्यात उपन्यासकार शरतचंद्र चट्टोपाध्याय ने उन्हें उपन्यास सम्राट कहकर संबोधित किया था। प्रेमचंद ने हिन्दी कहानी और उपन्यास की एक ऐसी परंपरा का विकास किया जिसने पूरी सदी के साहित्य का मार्गदर्शन किया। आगामी एक पूरी पीढ़ी को गहराई तक प्रभावित कर प्रेमचंद ने साहित्य की यथार्थवादी परंपरा की नींव रखी। उनका लेखन हिन्दी साहित्य की एक ऐसी विरासत है जिसके बिना हिन्दी के विकास का अध्ययन अधूरा होगा। वे एक संवेदनशील लेखक, सचेत नागरिक, कुशल वक्ता तथा सुधी (विद्वान) संपादक थे। बीसवीं शती के पूर्वार्द्ध में, जब हिन्दी में तकनीकी सुविधाओं का अभाव था, उनका योगदान अतुलनीय है। प्रेमचंद के बाद जिन लोगों ने साहित्य को सामाजिक सरोकारों और प्रगतिशील मूल्यों के साथ आगे बढ़ाने का काम किया, उनमें यशपाल से लेकर मुक्तिबोध तक शामिल हैं। मुंशी प्रेमचंद जी हिन्दी और उर्दू के महानतम भारतीय लेखकों में से एक हैं।  

More Details About Premchand Kahani Rachanavali Volume 5 (Hindi)
100 % AUTHENTIC PRODUCT GUARANTEE
Each book uploaded on our portal passes through rigorous Anti-Piracy check to ensure the book is genuine. We have teams deployed for checking the quality at multiple levels.
Team 1 : Before uploading a book we ensure each book is coming through an approved source.
Team 2 : Before an order goes for packing we checks the authenticity of the procuring source. Then only we process the order.
General Information
Author(s)Kamal Kishor Goyanaka
PublisherSahitya Akademi
ISBN9788126029464
Pages469
BindingHardback
LanguageHindi
Publish YearJanuary 2012
Reviews of Premchand Kahani Rachanavali Volume 5 (Hindi)
Average Rating

Write A Review

TOP REVIEWS


Top Reviews lists the most relevant product reviews only.


RECENT TOP REVIEWS